फूड तकनीकी में संवारे कैरियर

खाद्य अर्थात फूड के बिना पृथ्वी पर किसी भी प्राणी की कल्पना नही कर सकते है। समय के साथ अन्य जिस प्रकार अन्य चीजे बदल रही उसकी प्रकार हमारे खान-पान में परिवर्तन आ रहा है। वर्तमान प्रोसेस्ड फूड के रूप में एक नया विकल्प पर हमारे सामने आ रहा है। फूट प्रोसेसिंग एक उद्योग के रूप में हमारे सामने आया है। प्रोसेस्ट फूड की मांग बढ़ने के साथ-साथ फूड टेक्नोलाॅजी के क्षेत्र में करियर की कई संभावनाए और अवसर भी बढ़ रहे है। वर्तमान फूड टेक्नोलॉजिस्ट की मांग विश्व के हर देश में है। खाद्य पदार्थो की भावी आवश्यकता की पूर्ति के लिए प्रत्येक देश में फूट टेक्नोलाॅजी पर अनुसंधान कार्य हो रहा है। फूट टेक्नोलाॅजी के क्षेत्र किए जा रहे अनुसंधान कार्य खाद्य पदार्थ की गुणवत्ता एवं स्वाद पर किए जा रहे हैं।

फूड टेक्नोलॉजी को दो भागों में बांटा जाता हैः
मैनुफेक्चर्ड प्रोसेसेज- फूड टेक्नोलॉजी इस भाग में कच्चे उत्पाद जैसे अनाज, मीट, दुध सब्जियों आदि उत्पादों का भौतिक स्वरूप् में परिवर्तन करके उसे खाने एवं बिक्री के योग्य बनाया जाता है। 
वैल्यु एडेड प्रोसेसेज- इसके तहत कच्चे खाद्य उत्पादों में ऐसे कई ऐसे परिवर्तन किए जाते हैं जिससे वह संरक्षित, सुरक्षित और कभी खाने योग्य बन जाते हैं। उदाहरण के लिए-टमाटर सॉस और आइसक्रीम।

फूड तकनीक से संबंधित कोर्स के लिए आवश्यक योग्यता
फूट तकनीकी में कैरियर की इच्छा रखने वाले अभ्यर्थी के लिए आवश्यक है कि उसने 12 कक्षा विज्ञान (गणित/जीवविज्ञान) के साथ उत्तीर्ण की हो।

कौन से कोर्स करें
फुड तकनीक में कैरियर बनाने के लिए बीएससी (ऑनर्स) फूड टेक्नोलॉजी, बीटेक फूड टेक्नोलॉजी, एमटेक फूड टेक्नोलॉजी, पीजी डिप्लोमा इन फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी, एमबीए (एग्री बिजनेस मैनेजमेंट) जैसे कोर्स किए जा सकते है।

कहां से करें कोर्स
फुड तकनीक से संबंधित कोर्स दिल्ली यूनिवर्सिटी, दिल्ली, बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी, झांसी, इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी, दिल्ली, कानपुर यूनिवर्सिटी, कानपुर, कोलकाता विश्वविद्यालय, कोलकाता, गुरू नानक देव यनिवर्सिटी, अमृतसर, मुंबई यूनिवर्सिटी, मुंबई, सेंट्रल फूड टेक्नोलॉजी रिसर्च इंस्टीट्यूट, मैसूर, बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मेसरा,  सेंट्रल फूड टेक्नोलॉजिकल रिसर्च इंस्टिट्यूट (सीएफटीआरआई), नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ फूड टेक्नोलॉजी एंटरप्रिन्योरशिप एंड मैनेजमेंट (एनआईएफटीईएम)ए इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ क्रॉप प्रोसेसिंग टेक्नोलॉजी (आईआईसीपीटी), नेशनल एग्रीकल्चर-फूड बायोटेक्नोलॉजी इंस्टिट्यूट (एनएबीआई), फूड एंड ड्रग टॉक्सीकोलॉजी साइंस रिसर्च सेंटर (एफडीटीआरसी), नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ न्यूट्रीशन (एनआईएन), इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टॉक्सीकोलॉजी (आईआईटीआर), इंडियन एग्रीकल्चर रिसर्च इंस्टिट्यूट (आईएआरआई), डिपार्टमेंट ऑफ फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी, पांडिचेरी विश्वविद्यालय, इंटरनेशनल लाइफ साइंसेज इंस्टिट्यूट दृ इंडिया (आईएलएसआई), आईआईएसईआर पुणे, नेशनल डेरी रिसर्च इंस्टिट्यूट (एनडीआरआई), डिपार्टमेंट ऑफ फूड साइंस एंड न्यूट्रीशन, एसएनडीटी महिला विश्वविद्यालय, अमृता विश्वविद्यालय (रिसर्च प्रोजेक्ट्स), फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी सेंटर, संबलपुर विश्वविद्यालय जैसे संस्थान से किए जा सकते हैं।

रोजगार के अवसर कहां है
फूड टेक्नोलाॅजी से संबंधित कोर्स करने के बाद विभिन्न प्रकार की नौकरी की जा सकती है। इस कोर्स को करने के बाद इस क्षेत्र से संबद्ध व्यवसाय जैसे फूड प्रोसेसिंग यूनिट, रिटेल कंपनी, होटल, एग्री प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनियों में कार्य किया जा सकता है। इसके अलावा खाद्य क्षेत्र में अनुसंधान एवं उन्हें संरक्षित करने के लिए कार्य करने वाली प्रयोगशालाओं में भी नौकरी की जा सकती है।    

कितना कमा सकते हैं
प्रारंभ में इस क्षेत्र में कम से 10 से 15 हजार सरलतापूर्वक मिल सकते हैं। उसके बाद जैसे-जैसे आप अनुभव प्राप्त करते है इस क्षेत्र में आपका वेतन भी बढ़ता जाता है। इसमें स्वयं का व्यवसाय शुरू करने भी अच्छे पैसे कमाए जा सकते हैं।ं 

No comments:

Post a comment

स्वयं पोर्टल से घर बैठें करें निःशुल्क कोर्सेज

इंटरनेट के इस दौर में पारंपरिक शिक्षा अर्थात स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी से हायर एजुकेशनल डिग्रीज हासिल करने के अलावा भी विद्यार्थी विभिन्...