एक ऐसा शख्स जो अपने पैरों से कार चलता है

मनुष्य के पास यदि साहस हो तो वह कुछ भी करके दिखा सकता इसकी जीती जागती मिशाल है विवेक अग्निहोत्री। सात वर्ष की आयु में ही विक्रम के दोनों हाथ करंट लगने से खराब हो गए थे और उन्हें काटना पड़ता था। हाथ मनुष्य का सहारा होते है और वे ही काट दिए जाए तो समझो उसकी दुनिया की उजड़ गई। दोनों हाथ कटने के बाद भी विक्रम ने हार नहीं मानी थी, परंतु आपको सुनकर हैरानी होगी कि वह हाथ से होने वाले काम पैरों के सहारे कर लेते हैं। वह को तैराकी कर लेते हैं और कार भी चला लेते हैं। उन्होंने रेग्युलर स्कूल में अपनी पढ़ाई पूरी की है। उनके  पास मास्टर डिग्री है और वह मोटिवेशनल स्पीकर होने के साथ ही गैस एजेंसी भी चलाते हैं।

कैसे बनाए स्पोर्ट्स मैनेजमेंट में कैरियर

स्पोर्ट्स मैनेजमेंट इंडस्ट्री शिखर को छू रही है। क्रिकेट, हॉकी, कबड्डी, कुश्ती, फुटबॉल, टेबल टेनिस जैसे लीग मैच के कारण स्पोर्ट्स मैनेजमें...