सेना में अधिकारी कैसे बने

अपनी विभिन्न पोस्टों के माध्यम से हम समय पर विभिन्न केरियर आॅप्शन से संबंधित जानकारी प्रस्तुत करते रहते हैं। आज इस पोस्ट के माध्यम से हम सेना में अधिकारी कैसे बने इस संबंध में जानकारी प्रस्तुत कर रहे हैं। अगर आप सेना के माध्यम से देश की सेवा करना चाहते हैं तो आप थल सेना (आर्मी), जल-सेना (नेवी) और वायु सेना (एयरफोर्स) में अपना कैरियर बना सकते हैं। सेना की तीनों अंगो स्थल, जल एवं वायु सेना अधिकारी बनने के लिए अलग अलग आयु समूह के अलग अलग परीक्षा होती हैं।

एनडीए की परीक्षा
एनडीए की परीक्षा भारतीय सेना में अधिकारियों की भर्ती के लिए आयोजित की जाती है। इस परीक्षा को संघ लोकसेवा आयोग द्वारा वर्ष में दो बार आयोजित किया जाता है। इसमें केवल अविवाहित उम्मीदवार ही बैठ सकते है। वायु तथा जल सेना के लिए 12वीं में गणित विषय होना जरूरी है। इस परीक्षा को क्रेक करने के लिए आवश्यक है कि उम्मीदवार की गणित पर पकड़ हो। इस परीक्षा में दो पेपर आते हैं, जिनमें मैथ्स और जनरल एबिलिटी टेस्ट शामिल है। इन दोनों की परीक्षा में वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाते हैं। गणित का प्रश्न पत्र 300 अंकों का होता है, जबकि जनरल एबलिटी का पेपर 600 अंकों का होता है अर्थात यह 900 अंकों की लिखित परीक्षा होती है।
परीक्षा में सफल होने के बाद उमीदवार का साक्षात्कार होता है, उसके बाद सामान्य योग्यता, मनोवैज्ञानिक परीक्षण, शारीरिक व सामाजिक कौशल, चिकित्सा परीक्षण, टीम निर्माण कौशल और विस्तृत व्यक्तित्व परीक्षण के उसके बाद वरीयता सूची ;डमतपज स्पेजद्ध के आधार पर उमीदवार को ‘राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में प्रवेश मिलता है।
सफलतापूर्वक प्रशिक्षण पूरा होने के बाद राष्ट्रीय रक्षा अकादमी उम्मीदवार को सेवा देने से पहले एक वर्ष के प्रशिक्षण के लिए अपनी सम्बंधित अकादमीयों में भेजती है जैसे- सेना के उमीदवार को आईएमए देहरादून, नौसेना को आईएनए एजिला केरल और और वायुसेना उमीदवार को हैदराबाद भेजा जाता है।
इस परीक्षा में 16 1/2 से 19 वर्ष युवा शामिल हो सकते हैं। इसके लिए अनिवार्य शैक्षिण योग्यता बारहवीं या इसके समकक्ष होनी चाहिए।

सीडीसएस की परीक्षा
एनडीए की तरह सीडीएस की परीक्षा का आयोजन भी संघ लोकसेवा आयोग द्वारा वर्ष में दो बार कराया जाता है। इसका आयोजन सेना के तीनों अंगों अर्थात थल सेना, वायु सेना और नौसेना के अधिकारी वर्ग के पदों पर नियुक्तियों के लिए होता लिखित परीक्षा में सफल उम्मीदवारों के लिए साक्षात्कार के लिए आमंत्रित किया जाता है। तत्पश्चात चयनित उम्मीदवार को आईएमए देहरादून, नौसेना को आईएनए एजिला केरल और और वायुसेना उमीदवार को हैदराबाद भेजा जाता है। 
यहां पृथक-पृथक पदो के लिए उम्मीदवारों का चयन होता है, अतः उनकी शैक्षिक योग्यता इसलिए उनकी शैक्षिक योग्यता भी पृथक-पृथक है।
स्थल सेना अधिकारी के लिए किसी भी मन्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या समकक्ष से स्नातक डिग्री। भारतीय नौसेना अकादमी के लिए भौतिक, रसायन एवं गणित के स्थान विज्ञान स्नातक यसा इंजीनियरिंग की डिग्री होनी चाहिए। वायु सेना अकादमी इस अकादमी के लिए मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से गणित एवं भौतिक के साथ विज्ञान स्नातक या इंजीनियरिंग की डिग्री होनी चाहिए!
सीडीएस के लिए आयु परीक्षा में पृथक-पृथक अकादमियों के अनुसार आयु सीमा भी निर्धारित की गए है। भारतीय सैन्य अकादमी के लिए आयु 19 से 24 साल, नौसेना अकादमी के लिए आयु 19 से 25 साल, अधिकारी परिक्षण अकादमी के लिए आयु 19 से 25 साल, वायु सेना अकादमी  के लिए आयु 19 से 24 वर्ष है।

No comments:

Post a comment

स्वयं पोर्टल से घर बैठें करें निःशुल्क कोर्सेज

इंटरनेट के इस दौर में पारंपरिक शिक्षा अर्थात स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी से हायर एजुकेशनल डिग्रीज हासिल करने के अलावा भी विद्यार्थी विभिन्...