पर्यटन कैरियर का बेहतर विकल्प

पर्यटन भारत सबसे अधिक तेजी से वृद्धि करते हुए क्षेत्रों में से है। न केवल देशी अपितु विदेशी से भी काफी संख्या में पर्यटक भारत आते हैं और उनकी संख्या में दिनोंदिन वृद्धि हो रही है। एक रिपोर्ट के अनुसार नए वीसा सुधार, अतुल्य भारत अभियान और सरकार द्वारा अवसंरचना विकास पर जोर दिए जाने से भारतीय ट्रैवल एंड टूरिज्म उद्योग में आने वाले वर्षों में और वृद्धि होने की संभावना है। भारत की भौगोलिक और सांस्कृतिक-ऐतिहासिक विरासत को देखने और जानने की इच्छा के कारण दक्षिण एशिया से घूमने आने वाले करीब 50 प्रतिशत पर्यटक प्रति वर्ष भारत आना पसंद करते हैं। इन सब कारणों से ही पयर्टन भारत के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।


कौन से कोर्स करें 
पर्यटन क्षेत्र में केरियर बनाने के लिए आपके अनेक विकल्प है। इनके लिए विभिन्न प्रकार के कोर्स भी उपलब्ध है। पर्यटन से संबंधित कोर्सों को उनके लिए निर्धारित शैक्षित योग्यता के अनुसार किया जा सकता है। कुछ कोर्स 12वीं के पास किए जा सकते हैं और कुछ के लिए स्नातक की आवश्यकता होती है।  12वीं कक्षा के बाद ट्रेवल और टूरिज्म फिल्ड में तीन साल की डिग्री की जा सकती है। जैसे बीए, बीबीए, बीएचटीएम, बीएससी आदि। ग्रेजुएशन करने के बाद टूरिज्म में एमए, एमबीए, आदि किए जा सकते है। इस फिल्ड में 6 माह के सर्टिफिकेट कोर्स और 1 साल के पीजी डिप्लोमा कोर्स भी उपलब्ध हैं। पीजी डिप्लोमा इन ट्रैवल मैनेजमेंट, बैचलर ऑफ टूरिज्म स्टडीज, ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट कोर्स, बैचलर इन टूरिज्म एडमिनिस्ट्रेशन, फाउंडेशन एंड कंसल्टेंट कोर्स इन टूरिज्म लैंग्वेज, इंटीग्रेटेड डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट, सर्टिफिकेट कोर्स ऑन एयरलाइंस टिकटिंग एंड टूर प्लानिंग तथा डिप्लोमा इन टूरिज्म मैनेजमेंट इत्यादि कुछ इस क्षेत्र से जुड़े प्रमुख कोर्स है।

कहां से करें कोर्स
इस क्षेत्र से संबंधित कोर्स विभिन्न शैक्षिक संस्थानों द्वारा कराए जाते हैं, जिनमें इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टूरिज्म एंड ट्रेवल मैनेजमेंट, गार्डन सिटी कॉलेज, बैंगलुरू, दिल्ली यूनिवर्सिटी, दिल्ली, एकेडमी ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट, टूरिज्म एंड रिसर्च, बैंगलुरू, इंस्टिट्यूट ऑफ लॉजिस्टिक्स एंड एविएशन मैनेजमेंट, मुंबई, आंध्र यूनिवर्सिटी, विशाखापट्टनम, बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी, झांसी, लखनऊ यूनिवर्सिटी, यूपी, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्व विद्यालय नइ्र्र दिल्ली, उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय, प्रयागराज इत्यादि प्रमुख हैं।


कितना कमा सकते है आप 
कैरियर के प्रारंभ में  15 से 20 हजार प्रति माह वेतन मिलता है। लेकिन अनुभव बढ़ने के साथ 40 से लेकर 1 लाख रु प्रति माह या इससे अधिक भी कमाया जा सकता है।

यदि ब्लॉग पसंद आये तो इस  ब्लॉग को शेयर अवश्य करें


https://safalbananekikala.blogspot.com/2019/07/blog-post.html

इस ब्लाॅक की सफलता से प्रभावित होकर इस ब्लाॅग इस ब्लाॅग के चुनिंदा लेखकों को संग्रहित करके ‘सफल बनने की कला’ नामक पुस्तक की रचना की गयी है। पुस्तक में ब्लॉग में दिए गए मोटिवेशनल लेखों को शामिल किया गया है।   पुस्तक का मूल्य 120 रु निर्धारित किया गया है। सफल बनने की कला का उन सभी व्यक्तियों के लिए किया गया है, जो हर हालत में सफल होना चाहते है। पुस्तक ब्लाॅक के पाठकों को 30 प्रतिशत छूट के साथ उपलब्ध है।


No comments:

Post a comment

स्वयं पोर्टल से घर बैठें करें निःशुल्क कोर्सेज

इंटरनेट के इस दौर में पारंपरिक शिक्षा अर्थात स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी से हायर एजुकेशनल डिग्रीज हासिल करने के अलावा भी विद्यार्थी विभिन्...