साउंड इंजीनियरिंग (Sound Engineering))/तकनीशियन में कैसे कैरियर बनाए

इन दिनों फिल्मों एवं टीवी कार्यक्रमों में साउंड इफेक्ट्स पर अत्यधिक ध्यान दिया जा रहा है और किसी भी फिल्म या टीवी कार्यक्रम में साउंट इफेक्ट्स एक अच्छा साउंड इंजीनियर या तकनीशियन ही डाल सकता है।
अब बात करें की साउंड इंजीनियरिंग क्या होती है। साउंड इंजीनियरिंग एक ऐसी विधा है, जिसमें म्यूजिक, मूवी और थियेटर की रिकाॅडिंग, मिक्सिंग और रिप्रोडक्शन किया जाता है। यह क्षेत्र चुनौती पूर्ण आवश्य है परंतु जितने इसमें पारंगत होते जाते है उतना ही यह रुचिकर लगने लगता है। इसके अंतर्गत म्यूजिक, स्पीच और स्टूडियों साउंड को हाई क्वालिटी का बनाया जाता है। सांडड इफेक्ट के लिए विभिन्न उपकरणों का प्रयोग किया जाता है।


इससे संबंधित कोर्स
बहुत संस्थानों द्वारा साउंड इजीनियरिंग (Sound Engineering) या तकनीशिएन में 6 माह से लेकर 3 वर्ष तक की अवधिवाले सर्टिफिकेट तथा पीजी डिप्लोमा स्तर के कोर्स कराए जाते हैं। साउंड इंजीनियरिंग (Sound Engineering) या तकनीशियन से संबंधित कोर्सों में विद्यार्थियों को  साउंड रिकॉर्डिंग, एडिटिंग व मिक्सिंग की तकनीकी तथा व्यावहारिक जानकारी दी जाती है। इसके अलावा छात्रों को रिकॉर्डिग टूल जैसे- टेप मशीन, स्पीकर, एम्पलीफायर्स, सिंगल प्रोसेसर तथा माइक्रोफोन इत्यादि के प्रयोग को सिखाया जाता है तथा ऑडियो राइटिंग, बेसिक थ्योरी ऑफ साउंड फ्रिक्वेंसीज तथा साउंड स्पेशल इफेक्ट्स आदि से भी अवगत कराया जाता है।

अवसर
इस क्षेत्र में संबंधित कोर्स करने वाला व्यक्ति टीवी व फिल्मों के अलावाए डवरटाइजिंग, ब्रॉडकॉस्टिंग तथा मल्टीमीडिया व एनिमेशन इंडस्ट्री में भी काम पा सकते हैं। अनुभव प्राप्त करने के बाद स्वयं का रिकॉर्डिंग स्टूडियो भी खोला जा सकता है।
वैसे, एनिमेटेड और ग्राफिक्स बेस्ड फिल्मों और टीवी चैनलों की संख्या में तीव्र बढ़ोतरी के अलावा रेडियो की बदलती तस्वीर से साउंड इंजीनियरिंग के क्षेत्र में कुशल एवं पेशेवर व्यक्तियों की मांग दिनों दिन बढ़ रही है। 

कितनी आय हो सकती है
साउंड इंजीनियरिंग के क्षेत्र में काम करने वाला व्यक्ति का वेतन या उसकी आय उसके पद, अनुभव तथा इंडस्ट्री (फिल्म, टीवी या रेडियो) पर निर्भर करती है। अच्छे संस्थान से कोर्स करने के बाद शुरूआती दिनों मंे 15,000 रुपये से 20,000 रुपये प्रतिमाह तक वेतन के रूप प्राप्त हो सकते हैं। इस क्षेत्र में अनुभव एवं निपुणता प्राप्त करने के बाद लाखों रुपयें भी कमाए जा सकते हैं। 

साउंड इंजीनियरिंग या तकनीशियन से संबंधित कोर्स कहां से करें
यहां कुछ संस्थानों केनाम दिए जा रहे हैं जहां से साउंड इंजीनियरिंग या तकनीशियन से संबंधित कोर्स किए जा सकते हैं
दिल्ली फिल्म इंस्टीट्यूट, साउथ एक्सटेंशन,दिल्ली
फिल्म ऐंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, लॉ कालेज रोड, पुणे
श्री ओरोबिंदो सेंटर फॉर आर्ट एंड कम्युनिकेशन, महरौली, नई दिल्ली
सत्यजीत रे फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट, कोलकाता, वेस्ट बंगाल
एशियन एकेडमी ऑफ फिल्म ऐंड टीवी, नोएडा, उत्तर प्रदेश
एमजीआर गर्वमेंट फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट, सीआईटी कैम्पस, चेन्नई
विस्लींग वुड्स इंटरनेशनल, गोरेगॉव, मुंबई
आडियोफिल इंस्टीट्यूट ऑफ साउंड इंजीनियरिंग, कोच्चि, केरल
एसएई टेक्नोलॉजी कॉलेज, अंधेरी, मुंबई
बिहार इंस्टीट्यूट ऑफ फिल्म एंड टेलीविजन, पाटलिपुत्र, पटना।
राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान, वोकशन कोर्सज
इंदिरा गांधी मुक्त विश्वविद्यालय, दिल्ली

आप सभी से निवदेन है कि यदि यह पोस्ट आप को अच्छी लगे तो आप इसे  फेसबुक, वाट्सअप गुप तथा अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अधिक से अधिक शेयर करें ताकि ब्लाॅक का उद्देश्य पूर्ण हो सके।

No comments:

Post a comment

स्वयं पोर्टल से घर बैठें करें निःशुल्क कोर्सेज

इंटरनेट के इस दौर में पारंपरिक शिक्षा अर्थात स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी से हायर एजुकेशनल डिग्रीज हासिल करने के अलावा भी विद्यार्थी विभिन्...