अनमोल सुक्तिकोश-12

अपनी शक्ति के अनुसार
-एमिल
कल न जाने हम कहीं हो अतः आज ही जिएं
-सेचलर
प्रतीक्षा करने से बेहतर खतरों से आधे रास्ते मे मिलना अच्छा है।
-डेकन
स्पष्ट और सबल उद्देश्य के अतिरिक्त सफलता का अन्य कोई उपाय नहीं है।
-टी.टी मंगर



जुर्म को तैयार समाज करता है, मुजरिम उसे अमल में लाता है।
-ऐलफिरी
चिंतन सरल है परंतु कार्य कठिन, विचारों के अनुसार कार्य करना संसार का सबसे कठिन काय है।
-गेटे
सर्वाधिक आनंद किसी अच्छे कार्य को गुप चुप करने मे और इत्तिफाक सेउसका पता चलने मे है।
-चाल्र्स लैब
किस फूलकी रचना तथा उसमें रंग भरने का काम केवल ईश्वर कर सकता है, लेकिन कोई भी मूर्ख बालक उसको टुकड़े-टुकड़े करके बिखेर सकता है।
-गिब्सन
वक्ता शब्दों से आग तब फूंकते है जब उसका पक्ष कमजोर होता है। उसी तरह आदमी घोड़े तब चढ़ता है जब वह चल नहीं पाता।
-सिसरो
जिन का मन हमसे मिलता है उनके अलावा हम बहुत थोड़े लोगों को समझकर जानते हैं।
-रोशे फूकोल
वक्ता शब्दों में आग तब फूंकते हैं जब उनका पथ कमजोर होता है। उसी तरह आदमी घोड़े पर तब चढ़ता जब वह चल नहीं सकता।
-सिसरो
खाली पेट कोई व्यक्ति बुद्धिमान नहीं हो सकता।
-जार्ज ईलियट
मनुष्य ईश्वर की सर्वोत्तम कृति है और कुत्ता न्यूनतम, किंतु बुद्धिमानों का कथन है कि उपकार मानने वाला कुत्ता कृतधन मनुष्य से कहीं अधिक अच्छा है।
-शेख आदि
भूखा व्यक्ति न समझदारी की बात सुनता है, न न्याय की चिंता करता है और ही प्रार्थना सुनता है।
-सेनिका
कल न जाने हम कहां हो अतः आज हीजिएं।
-सेचलर
प्रतीक्षा करने से बेहतर खतरों से आधे रास्ते में मिलना अच्छा है।
-बेकन
तुम्हारी नाजाईज कमाई का फायदा कोई भी उइा सकता है। किंतु! तुम्हारे नाजाईज कर्मों की का फल तो तुम्हें ही भुगतना पड़ेगा।
-गीतानंद भिक्षु
संसार में केवल दो शक्तियां है एक आत्मविश्वास और दूसरी तलवार अंततः तलवार पर आत्मविश्वास विजय पाता है।
-नेपेलियन
मैं कभी-कभी म्यान से तलवार निकलता हूँ। मैंने बुद्धि अपनी आँखो से जीते है हथियारों से नहीं।
-नेपालियन
जो आप हैवही आपका संसार है।
-जे. एलन

No comments:

Post a Comment

रोजगारपरक पाठ्यक्रमों का बेहतर विकल्पः राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय

कई विद्यार्थी ऐसे होते है जो विभिन्न कारणों से अपनी पढ़ाई जारी नहीं रख पाते या उन्हें बीच में ही पढ़ाई छोड़नी पड़ती है, ऐसे विद्यार्थियों के ल...